ALL राजस्थान अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय लेख अध्यात्म सिने विमर्श वाणिज्य / व्यापार
आमजन को रास आने लगी हैं शहर की जनता क्लिनिक 
February 11, 2020 • Bhavesh • राजस्थान

जयपुर। स्वस्थ और निरोगी राजस्थान के संकल्प के साथ शुरू की गई जनता क्लिनिक न केवल आमजन को रास आ रही है बल्कि बड़े अस्पतालों के क्राउड कंट्रोल में भी मददगार साबित हो रही है। जयपुर में चल रही सभी पांच जनता क्लिनिकों पर मंगलवार को 750 से ज्यादा लोगों ने चिकित्सकीय सुविधाओं का लाभ लिया।

आंकड़ों के अनुसार मंगलवार को जनता क्निलिक की ओपीडी में कुल 764 मरीज परामर्श और इलाज के लिए आए जिनमें से सर्वाधिक फुटफाल वन विहार जनता क्लिनिक में देखने को मिला। यहां 272 लोग चिकित्सा सुविधा से लाभान्वित हुए। इसी तरह आजाद नगर में 208, जालूपुरा में 117, तोपखाना में 106 और वाल्मिकी काॅलोनी में 61 लोग जनता क्लिनिक आकर चिकित्सा सुविधाओं का लाभ उठाया।  

 गौरतलब है कि आमजन को उनके घर के आसपास चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 18 दिसंबर को वाल्मीकि नगर में राजस्थान के पहला जनता क्लीनिक आमजन को समर्पित किया था। मुख्यमंत्री बजट घोषणा के अनुसार प्रदेश भर में 100 जनता क्लिनिक का लक्ष्य रखा गया है। जयपुर में 12 में से 5 जनता क्लिनिक जनता को समर्पित किए जा चुके हैं, जबकि शेष भी बनकर तैयार हैं। इसी तरह जोधपुर में भी 3 जनता क्लिनिक जनता को समर्पित किए जाएंगे।

300 तरह की दवाएं और जांचे हैं निशुल्क
सभी जनता क्लिनिकों में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के समान चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। यहां लगभग 300 तरह की दवाएं निशुल्क मिलेंगी वहीं 7-8 तरह की जांचें की करवाई जा सकेंगी। यही नहीं लंबी लाइन में लगने की बजाए टोकन भी दिया जा रहा है ताकि किसी भी तरह की अव्यवस्था ना हो।

मरीजों का डेटा रहेगा आनलाइन
जनता क्लिनिकों की खास बात यह है कि ये पूरी तरह पेपरलैस हैं और मरीजों को कोई पर्ची नहीं दी जाती। सभी मरीजों का डेटा रखा जाता है। अगली बार आने पर उन्हें केवल अपना रेफरेंस नंबर ही बताना होता है। डेटा के आधार पर ही मरीजों को हैल्थ कार्ड भी बनाया जाएगा। इन क्लिनिकों को खोलने का मकसद प्रदेश की जनता को निरोगी और स्वस्थ रखना है।