ALL राजस्थान अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय लेख अध्यात्म सिने विमर्श वाणिज्य / व्यापार
बारा खबरे: कलक्टर राव ने वॉर रूम की बैठक में दिए निर्देश
May 28, 2020 • तहलका ब्यूरो • राजस्थान
कलक्टर राव ने वॉर रूम की बैठक में दिए निर्देश

जिला कलक्टर इन्द्र सिंह राव की अध्यक्षता में कोरोना आपदा के तहत दैनिक वॉर रूम की बैठक आयोजित हुई। बैठक में कलक्टर राव ने कहा कि कोरोना संकट के तहत सजग रहने की आवश्यकता है क्योंकि बारां से 3 व्यक्ति बुधवार को कोरोना पोजिटिव आए हैं इनमें से दो व्यक्ति पूर्व में कोरोना पोजिटिव आ चुके के माता-पिता है एवं एक अन्य महिला जो तालाब पाड़ा निवासी है कोरोना पोजिटिव आई हैं।

उन्होंने कहा कि जिले में कई प्रवासी लौटे हैं उनको होम आईसोलेशन की अनुशासन के साथ पालना करनी जरूरी है जिससे कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव किया जा सके। बैठक में सीएमएचओ डॉ. संपतराज नागर ने कोविड केयर सेन्टर के कार्य के संबंध में जानकारी दी। कृषि विभाग के अधिकारी ने टिड्डी प्रकोप व उससे बचाव हेतु की गई व्यवस्थाओं की जानकारी दी। रोडवेज प्रबंधक ने बताया कि आज मोक्ष कलश निशुल्क बस सेवा से पहली बस रवाना होगी इसी क्रम में अगली बस 30 जून को रवाना की जाएगी। बैठक में अन्य अधिकारियों ने भी प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की। इस अवसर पर सीईओ बृजमोहन बैरवा, भू आवप्ति अधिकारी हीरालाल वर्मा, कोषाधिकारी धीरज कुमार सोनी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

कंट्रोल रूम कार्यरत
कोरोना आपदा के तहत जिला मुख्यालय कलेक्ट्रट पर एवं चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है जिसका दूरभाष नंबर क्रमशः 07453-237081 व 07453-230451 है। कन्ट्रोल रूम के प्रभारी अधिकारी एडीएम बारां हैं जिनका मोबाईन नंबर 97845-44844 है। आमजन इस नंबर पर कोरोना वायरस से संबंधित कोई भी सूचना प्राप्त कर सकते हैं एवं सूचना दे सकते हैं।

मोक्ष कलश स्पेशल निःशुल्क बस सेवा से 33 यात्री हुए रवाना

विधायक पानाचंद मेघवाल ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान प्रदेश सरकार संवेदनशील होकर आमजन के हित में निर्णय ले रही है जिसके चलते मोक्ष कलश स्पेशल निशुल्क बस सेवा प्रारंभ की गई है जिसके माध्यम से कई लोग अपने स्वजनों के अस्थि कलश विसर्जन हेतु बिना किसी बाधा के हरिद्वार लेकर जा रहे हैं।

विधायक मेघवाल ने गुरूवार रोडवेज बस स्टेण्ड बारां पर मोक्ष कलश स्पेशल निशुल्क बस सेवा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। बस में 33 यात्री अपने परिजनों के 17 अस्थि कलश साथ लेकर रवाना हुए। इस मौके पर सभी यात्रियों को अल्पाहार, पेयजल आदि व्यवस्थाएं उपलब्ध कराकर रवाना किया गया। अस्थि कलश विसर्जन करने जा रहे यात्रियों ने प्रदेश सरकार की मोक्ष कलश स्पेशल निशुल्क बस सेवा के लिए आभार प्रकट किया। इस अवसर पर नगर परिषद सभापति कमल राठौर, गांधी जीवन दर्शन समिति के जिला संयोजक कैलाश जैन, पूर्व सभापति कैलाश पारस, शरद शर्मा, कोषाधिकारी धीरज कुमार सोनी, एसडीएम शत्रुघ्न सिंह गुर्जर, रोडवेज प्रबंधक, पीआरओ विनोद मोलपरिया, गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

रोडवेज प्रबंधक ने बताया कि मोक्ष कलश स्पेशल निशुल्क बस सेवा के तहत बारां से अगली बस 30 मई 2020 को रवाना होगी। इस सेवा का लाभ लेने के लिए राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के पोर्टल पर rsrtconline.rajasthan.gov.in पर अपना पंजीयन करवाना होगा।

कलक्टर ने बिहार के 22 श्रमिकों को बस से किया रवाना

जिला कलक्टर इन्द्र सिंह राव एवं पुलिस अधीक्षक डॉ. रवि सबरवाल ने गुरूवार को मिनी सचिवालय परिसर कलक्ट्रेट से बिहार के 22 श्रमिकों को बस के माध्यम से भीलवाड़ा के लिए रवाना किया। भीलवाड़ा से ये सभी श्रमिक गुरूवार सायं 5 बजे रेल के माध्यम से बिहार के लिए प्रस्थान करेंगे। कलक्टर राव ने श्रमिकों से बस में चर्चा करते हुए कहा कि आपको भोजन के पैकेट, पेयजल आदि व्यवस्थाएं उपलब्ध करवाई गई हैं। भीलवाड़ा से रेलयात्रा करते हुए आप सकुशल अपने राज्य के लिए जाएंगे। इस अवसर पर एडीएम मोहम्मद अबूबक्र, भू आवप्ति अधिकारी हीरालाल वर्मा, एसडीएम शत्रुघ्न गुर्जर डीटीओ दिनेश सिंह सागर आदि मौजूद थे।

प्रवासी श्रमिकों व कार्मिकों को किया जाएगा गेहूं का वितरण

जिला कलक्टर इन्द्र सिंह राव ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोविड-19 महामारी के कारण अस्थाई रूप से बंद हुए उद्योगों धंधो तथा उसमे कार्यरत कार्मिकों के लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा खाद्य (गेहूं) का वितरण किया जाएगा। इसके लिए प्रवासियों को ईमित्र पोर्टल पर सर्वे फार्म में अपनी जानकारी दर्ज करनी होगी। उन्होंने बताया कि इस संबंध में विडियो कांफें्रस के माध्यम से जिले के समस्त एसडीएम को सर्वे करवाने संबंधी निर्देश दिए हैं जिससे संबंधित पात्र व्यक्तियों को मई व जून माह में खाद्यान्न (गेहूं) का वितरण किया जा सके।

कोरोना वायरस की परिस्थिति के कारण अस्थाई रूप से बंद हुए उद्योग धंधो एवं उसमें कार्यरत कार्मिकों की श्रेणियांें के तहत हेयर सलून में कार्य करने वाले कार्मिक, कपडे धुलाई एवं प्रेस करने वाले कार्मिक, फुटवेयर मरम्मत, पॉलिश करने वाले कार्मिक, घरों में साफ-सफाई, खाना बनाने वाले कार्मिक, ऐसे व्यक्ति जो चौराहों पर सामान बेचते है तथा अपना भोजन किसी स्थान पर पकाकर खाते है, रिक्शा, ऑटो चलाने वाले व्यक्ति, पान की दुकान चलाने वाले व्यक्ति, रेस्टोरेंट, होटल में वेटर, रसोईया, रद्दी बिनने वाले व्यक्ति, भवन निर्माण कार्यों में नियोजित निर्माण श्रमिक, कोरोना के कारण बंद हुए उद्योगों में लगे हुए श्रमिक, प्राईवेट पब्लिक ट्रांस्पोर्ट में कार्यरत ड्राईवर, कंडक्टर, ठेला, रेहडी वाले, स्ट्रीट वेंडर जो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा में शामिल न हो.

धार्मिक संस्थाओं में पूजा, इबादत कर्म कांड एवं धार्मिक कार्य करने वाले व्यक्ति, ऐसे धार्मिक व्यक्ति जो विवाह, निकाह एवं अन्य धार्मिक कार्य सम्पन्न कराते हैं, मेरिज पैलेस, केटरिंग में कार्य करने वाले कार्मिक, सिनेमा हॉल में काम करने वाले कार्मिक, कोचिंग संस्थानों के सफाई, सहायक का कार्य करने वाले कार्मिक, विवाह समारोह आदि में बैंड, ढोल बजाने वाले कार्मिक, घोड़ी वाले, गाने बजाने वाले, नगिनों, आभूषण, चूड़ियों के काम में लगे श्रमिक, फर्नीचर के काम में लगे श्रमिक, बुक बाईंडर, प्रिंटिंग प्रेस कार्य में लगे श्रमिक, सभी प्रकार की रंगाई, पुताई, डाइंग, कलरिंग आदि के काम में लगे श्रमिक, पर्यअन गाइड का काम करने वाले, कठपुतली का खेल दिखाने वाले व्यक्ति, ईट भट्टों में लगे श्रमिक, फूल-मालाओं का काम करने वाले श्रमिक, टायर पंचर बनाने वाले श्रमिक, पत्तल-दोने बनाने के काम में लगे श्रमिक, घुमंतू, अर्ध घुमंतू व्यक्ति, गाडिया लुहार, झूले वाले, खेल तमाशा दिखाने वाले, जादू करतब दिखाते वाले, लोक कलाकार- कालबेलिया, मांगनियार इत्यादि, कुली, हम्माल, मिट्टी के बर्तन बनाने वाले आदि शामिल है।

बारां में एक और क्षेत्र में जीरो मोबिलिटी

जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्टेªट इन्द्र सिंह राव ने कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका को देखते हुए गुरूवार को जिला मुख्यालय पर एक और क्षेत्र में जीरो मोबिलिटी की निषेधाज्ञा जारी की है।

जिला कलक्टर राव के आदेश के अनुसार शहर के सदर बाजार के पास की गली में बृजमोहन सुखदेव किराने की दुकान को छोड कर, मीट मार्केट व उसके आगे से जलील भाई कारीगर के मकान तक रावल चौक, मन्सून अली के मकान तक, बाबू भाई बर्फ वाले के मकान तक, आबिद किराना स्टोर के पास चिड़ीमार कुआं तक के क्षेत्र में भादंसं 1973 की धारा 144 के तहत जीरो मोबिलिटी की निषेधाज्ञा जारी करते हुए जनसाधारण के आगमन-निर्गमन को प्रतिबंधित किया है। यह निषेधाज्ञा 10 जून को रात्रि 12 बजे तक प्रभावशील रहेगी।

संविदा सेवा के लिए आवदेन मांगे

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने सीमित अवधि के लिए संविदा सेवा पर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी पद के लिए 65 वर्ष तक के सेवानिवृत्त कर्मचारियों से आवेदन मांगे है। प्रतिकरण सचिव के अनुसार संविदा पुनर्नियुक्ति के लिए निर्धारित आवेदन पत्र में 11 जून 2020 तक आवेदन किया जा सकेगा। संविदा सेवा 31 मार्च 2021 तक या इस पद पर नियमित नियुक्ति होने तक, दोनों में से जो पहले हो तक सेवा ली जा सकेगी।

बाल विकास परियोजना अटरू का निरीक्षण

उपनिदेशक महिला एवं बाल विकास विभाग मोहिनी पाठक द्वारा बाल विकास परियोजना अटरू कार्यालय का निरीक्षण कर समीक्षा बैठक ली गई। बैठक में परियोजना के अक्रियाशील आंगनबाड़ी केन्द्रों को क्रियाशील करने एवं समस्त महिला पर्यवेक्षकों को एवं पोषण अभियान कार्मिकों को विभागीय समस्त योजनाओं की प्रभावी मोनिटरिंग हेतु निर्देशित किया गया। साथ ही महिला पर्यवेक्षकों एवं पोषण अभियान कार्मिकों को पोषाहार वितरण प्राप्त लाभार्थियों को फोन कर सत्यापन हेतु पाबंद किया गया। अटरू परियोजना में अभिसरण बैठक लंबित है, जिसे इसी सप्ताह करने हेतु निर्देशित किया गया। समीक्षा बैठक में कार्यालय के समस्त कर्मचारी एवं पोषण अभियान कार्मिक उपस्थित रहे।

कृषि आदानों की उपलब्धता हेतु बैठक आज

जिले में आगामी खरीफ 2020-21 की ऋतु में किसानों को उर्वरक, बीज आदि कृषि आदानों की उपलब्धता समय पर सुनिश्चित कराने के लिए जिला कलक्टर इन्द्र सिंह राव की अध्यक्षता में 29 मई 2020 को मिनी सचिवालय सभागार में 4.30 बजे बैठक का आयोजन किया जाएगा।

प्रदेश की दस मंडियों में ई-नाम परियोजना के सुगम संचालन के लिए पायलट प्रोजेक्ट

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश की 10 कृषि उपज मंडियों में ई-नाम परियोजना से संबंधित समस्त कार्य पायलट प्रोजेक्ट के रूप में विशेषज्ञ संस्था के माध्यम से कराए जाने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है। श्री गहलोत की इस मंजूरी से इन मंडियों में राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) परियोजना का कार्य बेहतर ढंग से संचालित हो सकेगा।

उल्लेखनीय है कि राज्य की 25 कृषि उपज मंडी समितियों में यह परियोजना चल रही है। शेष 119 मंडी समितियों को भी इससे जोड़ा जा रहा है। ई-नाम परियोजना से संबंधित कार्य वर्तमान में मंडी समितियों द्वारा अपने स्तर पर कराया जा रहा है। राष्ट्रीय स्तर की नोडल एजेंसी स्मॉल फार्मर्स एग्री बिजनेस कंसोर्टियम के दिशा-निर्देशों के आधार पर इस प्रोजेक्ट को सुगम एवं सुचारू रूप से संचालित करने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के तहत 12 माह के लिए विशेषज्ञ संस्था अथवा एजेंसी की सेवाएं ली जाएंगी।
इन दस मंडियों को दो क्लस्टर में बांटकर ई-उपापन की कार्यवाही की जाएगी। प्रथम क्लस्टर में कोटा, बारां, रामगंजमंडी, बूंदी एवं देवली तथा दूसरे क्लस्टर में श्रीगंगानगर, नागौर, बीकानेर, मेड़ता सिटी एवं जोधपुर अनाज मंडी में सम्पूर्ण व्यवहार ई-नाम पर किया जाना है।