ALL राजस्थान अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय लेख अध्यात्म सिने विमर्श वाणिज्य / व्यापार
खादी व ग्रामोद्योग की 1759 इकाइयां शुरु, कातिनों, बुनकरों, श्रमिकों को मिलने लगा है रोजगार-एसीएस उद्योग डॉ. अग्रवाल
May 17, 2020 • तहलका ब्यूरो • राजस्थान

जयपुर। अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग डॉ. सुबोध अग्रवाल ने कहा है कि समन्वित प्रयासों से खादी ग्रामोद्योग से जुड़ी 1759 इकाइयों में उत्पादन काम शुरु हो गया है। उन्होंने बताया कि इससे करीब 8700 लोगों को रोजगार मिलने लगा है वहीं परंपरागत ग्रामीण औद्योगिक गतिविधियां गति पकड़ने लगी है।
एसीएस उद्योग डॉ. अग्रवाल ने बताया कि खादी ग्रामोद्योग के माध्यम व सहभागिता से संचालित इकाइयोें को उत्पादन कार्य आरंभ करने की लिए प्रोत्साहित किया गया है जिसके परिणाम स्वरुप 1700 से अधिक ग्रामोद्योग इकाइयों द्वारा मिट्टी के बरतन, मिट्टी के खिलौने, छोटी छोटी तेल पिराई, आटा पिसाई, मसाला पिसाई, मोलेला, मसाला-पापड, मंगोड़ी आदि घरेलू उत्पादों का उत्पादन आरंभ हो गया है। उन्होंने बताया कि इन इकाइयों से करीब 8 हजार श्रमिक जुड़े हुए हैं।
एसीएस उद्योग डॉ. अग्रवाल ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए खादी संस्थाआंे के माध्यम से खादी के बार-बार धोकर उपयोग करने वाले गुणवत्ता पूर्ण मॉस्क तैयार कराने का भी निर्णय लिया गया और एक लाख 90 हजार से अधिक मॉस्क तैयार कर उपलब्ध कराए गए हैं। उन्होंने बताया कि सामाजिक सरोकारों को ध्यान में रखते हुए इनमंे से एक लाख से अधिक मॉस्क अस्पतालों, जिला प्रषासन और कोरोना वारियर्स को बिना किसी शुल्क के उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेष में छोटे-बड़े उद्योगों के साथ ही राज्य की खादी एवं ग्रामोद्योग से जुड़ी संस्थाओं और कुटीर उद्योगों मंे भी काम शुरु कराने से ग्रामीण क्षेत्र में कुटीर उद्योगों का संचालन होने लगा है और आर्टिजनों को रोजगार मिलने लगा है।
उद्योग आयुक्त श्री मुक्तानन्द अग्रवाल ने बताया कि औद्योगिक इकाइयों की शंकाओं व समस्याओं के समाधान व समझाइस के लिए महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र, रीको के अधिकारी व उद्योग विभाग के नियंत्रण कक्ष और रीको नियंत्रण कक्ष द्वारा निरंतर दी जा रही सेवाओं से औद्योगिक इकाइयांे की शंकाओं का समाधान हुआ है और प्रदेष में 15 हजार 700 से अधिक औद्योगिक इकाइयों में काम होने लगा है।
आयुक्त श्री अग्रवाल ने बताया कि राज्य में सभी औद्योगिक क्षेत्रों में सुरक्षा प्रोटोकाल की शतप्रतिषत पालना सुनिष्चित कराने के निर्देष के साथ कफर्््यूग्रस्त इलाकों को छोड़कर शेष सभी औद्योगिक क्षेत्रों को खोल दिया गया है।