ALL राजस्थान अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय लेख अध्यात्म सिने विमर्श वाणिज्य / व्यापार
निजी विश्वविद्यालयों में संविधान उद्यान बनाये जायें: राज्यपाल
July 10, 2020 • तहलका ब्यूरो • राजस्थान
 
जयपुर। राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा है कि हम संविधान के मार्ग निर्देशन पर चलते हैं। संविधान हमारे राष्ट्र का मूल ग्रंथ है। संविधान की जानकारी युवा पीढी को कराना आवश्यक है। निजी विश्वविद्यालयों में संविधान उद्यान बनाये जायें। इससे युवा संविधान को समझ सकेगा। युवा पीढी को संविधान से परिचित कराना है ताकि युवा समझ सकें कि उनका कार्य हिंसा करना नही है बल्कि राष्ट्र निर्माण में सक्रिय व रचनात्मक भागीदारी निभाना है। ये विचार राज्यपाल कलराज मिश्र ने शुक्रवार को राजभवन से वीडियो कान्फ्रेन्स के माध्यम से निजी विश्वविद्यालयों के अध्यक्षों और कुलपतिगण से संवाद के दौरान कहे। 
 
राज्यपाल ने कहा कि निजी विश्वविद्यालयों को आज की परिस्थितियों के अनुरूप उच्च शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करना होगा ताकि समाज का हित हो सके। कोविड-19 के दौर में युवा निराश न हों, वे अवसाद में नही आयें। युवाओं में उत्साह बना रहे और वे निरन्तर आगे बढते हुए अपने जीवनयापन के साधन तलाश कर सकें, ऎसा वातारण शिक्षा संस्थानों में बनाना होगा। निजी विश्वविद्यालय शिक्षा में गुणवत्ता को बनाये रखने में जुटे हुए हैं और शिक्षा कार्यों को ग्लोबल स्वरूप दे रहे हैं। सभी शैक्षणिक गतिविधियों को ऑन लाइन संचालित कर रहे हैं और कौशल शिक्षा पर जोर दे रहे हैं। निजी विश्वविद्यालयों के द्वारा किये जा रहे सभी प्रयास सराहनीय है।
 
राज्यपाल ने कहा कि कोविड-19 के विशम काल में उच्च शिक्षण संस्थानों में अनिश्चितता एवं निराशा के दौर को समाप्त करना अब आवश्यक है। सभी विश्वविद्यालयों को मिलकर अकादमिक उत्कृष्टता के लिए कार्य करना होगा साथ ही सामाजिक दायित्व के क्षेत्र में भी सक्रिय भूमिका निभानी होगी। राज्यपाल ने कहा कि युवा पीढी के प्रति वे चिन्तित है। युवाओं के मनोबल को गिरने नही देना है। छात्र-छात्राओं की परेशानियों को सुनना है और उन्हें दूर भी करना है।
 
राज्यपाल ने निजी विश्वविद्यालयों को युवाओं के लिए व्यक्तित्व विकास एवं नैतिक शिक्षा के संबध में कार्यक्रम चलाये जाने का आव्हान किया। कोविड-19 आपदा को एक लर्निग अवसर के रूप में देखा जाये। छात्र-छात्राओं केा ऑन लाइन शिक्षा हेतु दी जाने वाली सुविधाओं पर विचार किया जाये ताकि निर्बाध ऊर्जा से इन्टरनेट सप्लाई के साथ वे अपना शिक्षा कार्य कर सके।
 
निजी विश्वविद्यालयों के संवाद कार्यक्रम में वनस्थली विद्यापीठ, बिटस पिलानी, जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी, एमिटी यूनिवर्सिटी, ज्योति विद्यापीठ वुमैन्स यूनिवर्सिटी, मेवाड़ यूनिवर्सिटी, एन आई आई टी यूनिवर्सिटी, इक्फाई यूनिवर्सिटी, जे ई सी आर सी, अपेक्स और भारतीय स्किल डेवलपमेन्ट विश्वविद्यालय सहित ग्यारह विश्वविद्यालयों के अध्यक्ष, कुलपति व निदेशकों ने भाग लिया। संवाद कार्यक्रम का आरम्भ राज्यपाल के सचिव सुबीर कुमार ने किया। कुमार ने संवाद के एजेण्डा बिदुओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस मौके पर राज्यपाल के प्रमुख विशेशाधिकारी गोविन्द राम जायसवाल भी मौजूद थे।