ALL राजस्थान अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय लेख अध्यात्म सिने विमर्श वाणिज्य / व्यापार
राज्य निर्वाचन आयोग ने ली गृह, स्वास्थ्य, पंचायतीराज और स्वायत्त शासन विभाग के अधिकारियों की बैठक
July 10, 2020 • तहलका ब्यूरो • राजस्थान
जयपुर। राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त पीएस मेहरा ने अगस्त माह में प्रस्तावित नगर निकाय, पंचायत व नगर निगमों के चुनाव के संबंध में गृह विभाग, पंचायतीराज एवं स्वायत्त शासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ विस्तार से चर्चा की।
 
सचिवालय स्थित आयोग कार्यालय में शुक्रवार को हुई बैठक में पंचायती राज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजेश्वर सिंह, चिकित्सा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोड़ा, पंचायती राज विभाग के आयुक्त सिद्धार्थ महाजन, स्वायत्त शासन विभाग के सचिव भवानी सिंह देथा, गृह विभाग के सचिव नारायण लाल मीणा, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) सौरभ श्रीवास्तव, राज्य निर्वाचन आयोग से उप सचिव अशोक जैन व सहायक विधि परामर्शी महेश यादव उपस्थित रहे।
 
मेहरा ने बताया कि आगामी अगस्त व अक्टूबर माह में 129 नगर निकाय (जिनका कार्यकाल अगस्त में पूरा हो रहा है), 6 नगर निगम (जिनके चुनाव उच्च न्यायालय के आदेशानुसार माह अगस्त में कराए जाने हैं) और 3859 ग्राम पंचायत (जो कि जनवरी के आम चुनाव में शेष रह गई थीं) के आम चुनाव करवाए जाने हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए सभी विभाग के अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की गई है।
 
चुनाव आयुक्त ने बताया कि कोराना वायरस के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य विभाग से आगामी माह में संक्रमण की स्थिति, संक्रमण के प्रसार व रोकथाम की जानकारी व चुनाव होने के स्थिति में बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में भी विस्तार से चर्चा की गई। इसी तरह गृह विभाग के अधिकारियों से पुलिस बल की उपलब्धता और नियोजन के बारे में चर्चा की गई। कोरोना के चलते राज्य के कई हिस्सों में पुलिस बल तैनात है। ऎसे में चुनाव होने की स्थिति में पुलिस बल की उपलब्धता, नियोजन और संक्रमण से बचाव के बारे में भी बात हुई। उन्होंने बताया कि पंचायतीराज एवं स्वायत्त शासन विभाग के अधिकारियों से चुनाव के संबंध में राय व अन्य सुझाव लिए गए। स्वायत्त शासन विभाग द्वारा अगस्त माह में प्रस्तावित नगरीय निकायों के चुनाव को स्थगित रखने का अनुरोध किया है।  
 
मेहरा ने बताया कि संबंधित विभागों से मिली जानकारी के बाद आयोग उचित समय (एप्रोप्रिएट टाइम) पर आगामी चुनाव के बारे में कोई निर्णय लेगा।