ALL राजस्थान अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय लेख अध्यात्म सिने विमर्श वाणिज्य / व्यापार
रक्तदान से लोगों की जान बचती है, हम सभी रक्तदान करें, किसी दूसरे के लिए यह कार्य करें: डॉ हर्षवर्धन
May 4, 2020 • तहलका ब्यूरो • राष्ट्रीय

डॉ. हर्षवर्धन ने आज नई दिल्ली स्थित इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी भवन में आयोजित रक्तदान शिविर में कहा, “रक्तदान से लोगों की जान बचती है, चलिए हम रक्तदान के लिए जागरूकता बढ़ाएँ और सुनिश्चित करें कि जरूरतमंदों को सुरक्षित और गुणवत्तापूर्ण रक्त समय पर और किफायती दर पर मिले। हम सभी रक्तदान करें, किसी दूसरे के लिए यह कार्य करें।”

उन्होंने कहा, “थेलेसिमिया के मरीज़ मुझसे कई बार मिलने आये और मुझे ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से बीमार रोगियों की अपीलें / शिकायतें प्राप्त होती हैं, जिन्हें स्वस्थ रहने के लिए नियमित रूप से खून चढ़ाने की आवश्यकता होती है। यह हमारा कर्तव्य है कि हम हर समय उनकी आवश्यकताओं को पूरा करें और ब्लड बैंकों में ताजे रक्त की नियमित आपूर्ति बनाए रखें।”

उन्होंने स्वैच्छिक संगठनों, गैर सरकारी संगठनों और आम लोगों से अपील करते हुए कहा कि देश में किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए पर्याप्त मात्रा में रक्त स्टॉक बनाने हेतु उन्हें आगे आना चाहिए और स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा देना चाहिए। उन्होंने आगे कहा "मानवीय कार्यों के सभी रूपों को प्रेरित करना, प्रोत्साहित करना और शुरू करना हमारा उद्देश्य होना चाहिए ताकि आने वाले समय में मानव पीड़ा को कम किया जा सके।"

उन्होंने रेडक्रॉस को कहा कि उसे स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा देना चाहिए और रक्तदाताओं को लाने और पहुँचाने की सुविधा प्रदान करके रक्त का पर्याप्त स्टॉक बनाये रखना चाहिए। इसके अलावा केंद्रीय मंत्री ने इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी को नियमित रक्तदाताओं के परिसर में मोबाइल रक्त संग्रह वैन भेजने के लिए कहा ताकि उन्हें इस कठिन समय में रक्तदान के लिए प्रोत्साहन मिल सके। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्होंने स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए राज्य के स्वास्थ्य मंत्रियों को भी पत्र लिखा है और इस विषय पर एक वीडियो कॉन्फ्रेंस भी किया है।

देश में वर्तमान स्थिति के बारे में बात करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, “कोविड-19 के कठिन समय के दौरान हम जरूरतमंद मरीजों को रक्त की महत्वपूर्ण आपूर्ति का प्रबंधन करने में सक्षम हैं। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ाने के लिए उन्होंने रेड क्रॉस के अधिकारियों की बैठक बुलाई और रेड क्रॉस सोसाइटी के कार्यकर्ताओं और उनके वाहनों के लिए 30,000 अनुमति पत्रों की व्यवस्था करके उनकी मदद की।"

स्वैच्छिक रक्तदाताओं से आग्रह करते हुए डॉ हर्षवर्धन ने कहा, "दूसरों की जान बचाना मानव जाति की सेवा करना है।" उन्होंने कहा कि एक स्वस्थ व्यक्ति 65 वर्ष की आयु तक रक्तदान कर सकता है, प्रत्येक 03 महीने में एक बार अर्थात वर्ष में चार बार रक्तदान कर सकता है और स्वस्थ रह सकता है। उन्होंने कहा कि रक्तदान मानव शरीर को कई लाभ पहुंचाता है- यह दिल के दौरे को रोकता है, रक्तचाप नियंत्रित करता है, इससे रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर नीचे जाता है और मोटापा भी कम होता है। संक्षेप में, यह मानव सेवा के साथ स्वाथ्य की सुरक्षा है। उन्होंने बताया कि उन्होंने अपने जीवन में एक नियमित रक्तदाता के रूप में 100 से अधिक बार रक्तदान किया है; जीवन में पहली बार 1971 में और अंतिम बार अक्टूबर 2019 में रक्तदान किया था। उन्होंने आगे कहा कि लोग अपने जन्मदिन या शादी की सालगिरह पर वर्ष में कम से कम एक बार रक्तदान करें ताकि यह अवसर केवल अपने लिए नहीं बल्कि उन लोगों के लिए भी हो जिन्हें खून की ज़रूरत है।”

उन्होंने कहा, "इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी एक स्वैच्छिक मानवीय संगठन है, जिसके पास पूरे देश में 1100 से अधिक शाखाओं का नेटवर्क है और जो आपदाओं / आपात स्थितियों के समय राहत व सहायता प्रदान करता है और कमजोर लोगों और समुदायों के बीच स्वास्थ्य और देखभाल को बढ़ावा देता है।" उन्होंने कहा, "इस नेटवर्क के माध्यम से हम निश्चय ही कोविड -19 प्रकोप के इस कठिन समय में भी रक्त की आपूर्ति को बनाए रखने में सक्षम होंगे।"

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत ने वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सही समय पर लॉकडाउन लगाया। उन्होंने सभी से लॉकडाउन 3.0 का शब्दशः  पालन करने और सामाजिक दूरी को सामाजिक टीका मानने का आग्रह किया। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि अभी भारत में कोविड-19 समर्पित अस्पताल, पीपीई, एन95 मास्क, वेंटिलेटर और दवाएं पर्याप्त मात्र में उपलब्ध हैं। बाकी दुनिया की तुलना में हम बेहतर स्थिति में हैं। भारतीय रेड क्रॉस परिवार ने कोविड-19 के खिलाफ हमारी लड़ाई में बहुत बड़ा योगदान दिया है। सोसाइटी ने भारत के कई अस्पतालों में उपकरण, सैनिटाइज़र, भोजन, पीपीई किट और एन95 मास्क आदि प्रदान किए हैं।"

अंत में, डॉ. हर्षवर्धन ने शिविर में रक्तदान करने आए सभी लोगों को धन्यवाद दिया और कहा कि 200 से अधिक लोगों ने पहले ही रक्तदान के लिए अपना पंजीकरण करा लिया है और उम्मीद है कि और लोग भी रक्तदान के लिए आगे आयेंगे क्योंकि शिविर शाम 04.00 बजे तक चलेगा। उन्होंने अलग-अलग कमरों में रक्तदाताओं से भेंट करके उन्हें नेक काम करने के लिए प्रेरित किया। रक्तदाताओं में दिल्ली पुलिस के कुछ पुलिसकर्मी भी थे जो शिविर के लिए तैनात किये गए थे।

इस अवसर पर उत्तर पूर्वी दिल्ली के संसद सदस्य श्री मनोज तिवारी, आईआरसीएस के महासचिव श्री आर. के. जैन, सामाजिक कार्यकर्ता श्री श्याम जाजू, श्री सुनील यादव और कई अन्य लोग भी उपस्थित थे।