ALL राजस्थान अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय लेख अध्यात्म सिने विमर्श वाणिज्य / व्यापार
तजाकिस्तान से 184 प्रवासी विद्यार्थी जयपुर पहुंचे, 14 को आएगी अगली फ्लाइट: एसीएस 
June 10, 2020 • तहलका ब्यूरो • राजस्थान
जयपुर। दुसंबे तजाकिस्तान से बुधवार को दोपहर बाद जयपुर पहुंची फ्लाइट सोमोन एसजेड 8109 से 184 राजस्थानी प्रवासी जयपुर आए हैं। यह सभी छात्र वहां एमबीबीएस का अध्ययन कर रहे हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि एयरपोर्ट पर थर्मल स्केनिंग, चिकित्सकों की टीम द्वारा मेडिकल चैकअप, इमिग्रेशन के बाद सभी प्रवासी राजस्थानी छात्र-छात्राओं को संस्थागत क्वारंटाइन के लिए भिजवाया गया। जयपुर पहुंचे विद्यार्थियों के चेहरों पर अपनों के बीच आने की खुशी साफ झलक रही थी।
 
एसीएस डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा बनाए गए एयर सेल द्वारा नियमित मोनेटरिंग की जा रही है। राज्य में अब तक 25 फ्लाइट से करीब साढ़े तीन हजार प्रवासी राजस्थानी जयपुर पहुंच चुके हैं। तजाकिस्तान से आज आई तीसरी फ्लाइट अपरान्ह पौने चार बजे जयपुर पहुंची फ्लाइट में वहां मेडिकल का अध्ययन कर रहे प्रवासी राजस्थानी विद्यार्थी जयपुर पहुंचे हैं। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा एयरपोर्ट पर आगमन से लेकर संस्थागत क्वारंटाइन तक की सभी व्यवस्थाएं चाकचौबंद होने से सुचारु व्यवस्था बनी हुई है। 14 जून को आने वाली फ्लाइट में लगभ्ग 148 राजस्थानी प्रवासी विद्यार्थियों के जयपुर आने की संभावना है।
 
एयरपोर्ट पर क्वारंटाइन अधिकारी बिरधी चंद गंगवाल, पर्यटन विभाग के उपनिदेशक उपेन्द्र सिंह शेखावत, रीको के डीजीएम तरुण जैन, उपमुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. निर्मल जैन के नेतृत्व में डॉ. धनेश्वर व चिकित्सकों की टीम, जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के दल द्वारा सभी व्यवस्थाओं की देखरेख की जा रही है। फ्लाइट के आते ही सोशल डिस्टेसिंग, बारी-बारी से सेनेटाइज, मेडिकल कियोस्क पर थर्मल स्केनिंग व डॉक्टरों की टीम द्वारा स्वास्थ्य जांच, उसके बाद संस्थागत क्वारंटाइन की व्यवस्था, इमिग्रेशन और अन्य औपचारिकताआेंं के बाद बसों से क्वारंटाइन होटल में भिजवाया जा रहा है। एयरपोर्ट पर सभी प्रवासियाें के मोबाइल फोन पर आरोग्य सेतु और राजकोविडइंफो एप अनिवार्य रुप से डाउनलोड करवाया जा रहा है वहीं एयरपोर्ट पर सभी प्रवासियों के लिए चाय, कॉफी, पीने का पानी, बिस्कुट आदि की निःशुल्क व्यवस्था है। फ्लाइट से आने वाले सभी प्रवासियों को संस्थागत क्वारंटाइन के स्टेण्डर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर से संबंधित विस्तृत जानकारी भी दी जा रही है।